सहसंयोजक बंध किसे कहते हैं?

सहसंयोजक बंध किसे कहते हैं? – दो परमाणुओं के बीच इलेक्ट्रॉन की साझेदारी द्वारा बने बंध को सहसंयोजक बंध कहते हैं। जिन यौगिकों में इस प्रकार का बंध पाया जाता है। उन्हें सहसंयोजी यौगिक कहते हैं।

जब दो परमाणु परस्पर एक, दो या तीन इलेक्ट्रॉनों की साझेदारी करते हैं। तो बनने वाले संयोजक बंध क्रमह एकल बंध, द्वि बंध तथा त्रि बंध कहलाते हैं।

एकल बंध को सिंगल लाइन, द्विबंध में दो लाइन, त्रि-बंध में तीन लाइन से व्यक्त करते।

बंधो की व्याख्या सर्वप्रथम लुइस ने की थी।

सहसंयोजक बंध बनने के लिए आवश्यक शर्तें।

परमाणुओं के बीच संयोजक बंध बनने के लिए उनकी विधुत ऋणात्मकता समान या लगभग समान होनी चाहिए। दो अधातुओ के मध्य सहसंयोजक बंध बनते है।

जैसे – Cl2, Br2 आदि

सहसंयोजक बंध के लक्षण

समान्य ताप और दाब पर साधारण सहसंयोजक यौगिक गैस या द्रव अवस्था मे होते है। क्योकि उनके अणु वांडरवाल बलों से जुड़े होते है। लेकिन उच्च अनुभार वाले यौगिक ठोस अवस्था मे होते है।

जैसे – Cl2 ( अणुभार 71 ) = गैस, Br2 ( अणुभार 160 ) = द्रव, I2 ( अणुभार 254 ) = ठोस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *